Ketu Transit 2022 | केतु गोचर 2022 कुम्भ राशि पर प्रभाव

Ketu Transit 2022 | केतु गोचर 2022 कुम्भ राशि पर प्रभावKetu Transit 2022 | केतु गोचर 2022 कुम्भ राशि पर प्रभाव. केतु ग्रह गोचर में 17 मार्च 2022 से लेकर 28 नवम्बर 2023 तक तुला राशि में भ्रमण करेगा । केतु ग्रह की गति वक्री होती है (जानें ! ग्रह क्यों होते हैं वक्री ?) । आइये जानते है कि केतु ग्रह के वृश्चिक राशि से तुला में परिवर्तन से कुम्भ राशि वाले व्यक्ति के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा व्यवसाय, धन, माता-पिता, शिक्षा, परिवार, भाई-बंधू, तथा दाम्पत्य जीवन को किस तरह से प्रभावित करेगा।

प्रस्तुत लेख के माध्यम से जानते है कि केतु का तुला राशि में संचरण से कुम्भ राशि वाले व्यक्ति के जीवन यात्रा पर क्या-क्या प्रभाव पड़ने वाला है का विचार करते है।

Ketu Transit 2022| केतु गोचर 2022| कुम्भ राशि पर प्रभाव

कुम्भ  राशि ( Pisces Sign ) के व्यक्ति की जन्मकुंडली में केतु का गोचर ( Ketu Transit 2021) नौंवे भाव में होगा। यह भाव पिता, भाग्य, धर्म और विदेश यात्राओं का है। अतः केतु के गोचर निश्चित ही भाग्य से सम्बन्धित फल की प्राप्ति होगी। इस समय आप आये दिन अपने भाग्य को कोसना शुरू कर देंगे । आप बार बार कहेंगे मेरा तो भाग्य ही खराब है अब मैं क्या करू इत्यादि इत्यादि।

अतः भाग्य को कोसना बंद कर दे और अपने परिश्रम पर भरोसा तथा कृत परिश्रम के फल का धैर्य पूर्वक इन्तजार करे अवश्य ही सकारात्मक परिणाम मिलेगा। किसी भी कार्य के लिए आलस्य न करे अन्यथा सुनहरा अवसर खो सकते है।

आपके अंदर निर्णय लेने की क्षमता भी कही न कहीं प्रभावित होगी। आप सही गलत का पहचान  नहीं कर पाएंगे जिसका खामियाजा आपको भुगतना पड़ेगा। अतः निर्णय लेने में सावधानी बरतें। पिता का स्वास्थ ख़राब हो सकता है। सितम्बर से जनवरी तक तो आपको भी अपने सेहत का ध्यान रखना जरुरी होगा।  स्वास्थ्य के ऊपर व्यय हो सकता है।

भाई-बहन की सेहत भी खराब हो सकती है। तीर्थ यात्रा पर जाने का  योग बन रहा हैं। प्राचीन मान्यताओं और विचारधारा को महत्व आपके जीवन में बढ़ेगा। धार्मिक कार्य तथा मोक्ष के प्रति विचारात्मक अभिरुचि बढ़ेगी। यदि ऐसा नहीं होता है तो आप मानसिक रूप से अवश्य ही परेशान रहेंगे क्योकि आपके नकारात्मक सोच धर्म और आध्यात्मिकता में रूचि उत्पन्न होने से ही दूर हो सकता है।

विदेश यात्रा 

विदेश या लम्बी दूरी की यात्रा ( Foreign Travel and Settlement )  का योग बन रहा है। जब केतु का गोचर नौवें भाव में होगा तब अापकी विवेकशीलता बढ़ जायेगी। परन्तु भविष्य की चिंता तो बनी रहेगी हां विवेकशीलता के कारण कुछ कमी होगी।

छात्रों के लिए यह समय अनुकूल है प्रतियोगी परीक्षाओ में सफलता के बहुत अधिक चांस है अतः इस समय का सदुपयोग कीजिये आलस्य से दूर रहे नहीं तो बाद में पश्चाताप करना पड़ेगा। अब पछताय होत क्या जब चिड़िया चूक गई खेत।

केतु गोचर 2022 का विभिन्न राशियों पर प्रभाव

मेष राशिवृष राशिमिथुन राशिकर्क राशि
सिंह राशिकन्या राशि तुला राशिवृश्चिक राशि
धनु राशिमकर राशिकुम्भ राशिमीन राशि

Leave a Comment

Your email address will not be published.