navratri

Chaitra Navratri Tithi 2024 : जानें ! कब करें कलश स्थापन, अष्टमी, नवमी, और कन्या पूजन?

Chaitra Navratri Tithi 2024 : जानें ! कब करें कलश स्थापन, अष्टमी, नवमी, और कन्या पूजन? आद्यशक्ति स्वरूपा माता दुर्गा की उपासना का पवित्र त्यौहार चैत्र नवरात्रि का प्रारम्भ 2024 में 09 अप्रैल से हो रहा है। नवरात्रि का समापन 17 अप्रैल को होगा। नवरात्रि की शुरुआत के दिन कलश-स्थापना तथा मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना […]

Chaitra Navratri Tithi 2024 : जानें ! कब करें कलश स्थापन, अष्टमी, नवमी, और कन्या पूजन? Read More »

माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है

माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है. माता दुर्गा की तृतीय शक्ति है चंद्रघंटा । नवरात्रि के तृतीय दिवस में माता के इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। मां दुर्गा से देवी चन्द्रघण्टा तृतीय रूप में असुरों के विनाश के लिए प्रकट हुई। देवी चंद्रघंटा ने भयंकर दैत्य सेनाओं

माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है Read More »

Dussehra 2023 – जानें ! 2023 में कब है दशहरा और रावण दहन का शुभ मुहूर्त

Dussehra 2023 – जानें ! 2023 में कब है दशहरा और रावण दहन का शुभ मुहूर्त  . ‘विजयदशमी’ या दशहरा का पर्व आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। वस्तुतः रावण पर भगवान श्री राम की जीत के उपलक्ष्य में विजयदशमी वा दशहरा का ये त्यौहार मनाया जाता है। यह पर्व बुराई

Dussehra 2023 – जानें ! 2023 में कब है दशहरा और रावण दहन का शुभ मुहूर्त Read More »

नवरात्रि में किस मंत्र के जप से होगा कोरोना वायरस का नाश ?

इस वर्ष 25 मार्च 2020 से चैत्र नवरात्रि शुरू हो रहा है। नवरात्रि में भक्त जन स्वयं के कल्याण के लिए माता दुर्गा – शक्ति की उपासना करते है। नवरात्रि में माता उपासक दुर्गा सप्तशती का पाठ करते हैं, परन्तु इसी दुर्गा सप्तशती में कुछ ऐसे प्रभावी मंत्र भी हैं जिसका जप करने से महामारी

नवरात्रि में किस मंत्र के जप से होगा कोरोना वायरस का नाश ? Read More »

Devi Suktam : देवी सूक्त पाठ से घर में धन वैभव एवं शांति आती है

Devi Suktam : देवी सूक्त पाठ से घर में धन वैभव एवं शांति आती है। नवरात्रि में विशेष रूप से  दुर्गासप्तसती के पाठ से माँ दुर्गा की साधना की जाती है।  दुर्गासप्तसती में देवी सूक्त (Devi Suktam) का विशेष महत्त्व है कहा जाता है की देवी सूक्त के पाठ करने से भक्त को देवी माँ

Devi Suktam : देवी सूक्त पाठ से घर में धन वैभव एवं शांति आती है Read More »

Navratri 2022 | चैत्र नवरात्री 2022 कलश स्थापना और पूजा का समय

Navratri 2022 | चैत्र नवरात्री 2022  कलश स्थापना और पूजा का समय . इस वर्ष नवरात्री पूजन “2 अप्रैल 2022 दिन शनिवार “ से प्रारम्भ है। उस दिन प्रथम नवरात्र (प्रतिपदा) है। नवरात्रि के प्रथम दिन माता शैलपुत्री के रूप में विराजमान होती है। उस दिन कलश स्थापना के साथ-साथ माँ शैलपुत्री की पूजा की

Navratri 2022 | चैत्र नवरात्री 2022 कलश स्थापना और पूजा का समय Read More »

Navratri | नवरात्रि में महागौरी की पूजा से दूर करें वैवाहिक बाधाएं

Navratri | नवरात्रि में महागौरी की पूजा से दूर करें वैवाहिक बाधाएं . नवरात्री में नौ दिनों में माता के विभिन्न स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है तथा अपनी विशेष मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए देवी माँ के विशेष स्वरूप की पूजा करने का भी विधान है। नवरात्री के आठवें दिन शंख और चन्द्र

Navratri | नवरात्रि में महागौरी की पूजा से दूर करें वैवाहिक बाधाएं Read More »

नवरात्रि में राश्यानुसार करें देवी आराधना | Worship of Goddess by Sign

नवरात्रि में राश्यानुसार करें देवी आराधना | Worship of Goddess by Sign. नवरात्र पर्व नौ दिनों तक चलने वाला हिन्दुस्तानवासियो के लिए अत्यंत ही पावन पर्व होता है इस पर्व में माता के विभिन्न स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है तथा देवी माँ को प्रसन्न करने के लिए विभिन्न साधनाएं की जाती हैं। नवरात्रि में

नवरात्रि में राश्यानुसार करें देवी आराधना | Worship of Goddess by Sign Read More »

Navratri | नवरात्री में कन्या पूजन विधि महत्त्व तथा लाभ

 Navratri | नवरात्री में कन्या पूजन विधि महत्त्व तथा लाभ.  भारतीय हिन्दू संस्कृति में नवरात्री पूजन तथा नवरात्री में कन्या पूजन का विशेष महत्त्व रहा है और रहेगा परन्तु क्यों ? क्या आप जानते है नहीं न , आप ही नहीं ऐसे बहुत लोग है जो कन्या पूजन तो करते है परंतु क्यों का उत्तर

Navratri | नवरात्री में कन्या पूजन विधि महत्त्व तथा लाभ Read More »

श्राद्ध कर्म महत्त्व और तिथियां | Shradh Dates 2019

श्राद्ध कर्म महत्त्व और तिथियां | Shradh Date 2019  हिंदू धर्म में नवरात्र और श्राद्ध कर्म का विशेष महत्त्व है। अपने देवताओं, पितरों, परिवार तथा वंश के प्रति श्रद्धा प्रकट करना ही श्राद्ध कर्म है। श्राद्ध कर्म का वर्णन हिंदु धर्म के धार्मिक ग्रंथों में किया गया है। श्राद्ध को पितृ पक्ष के नाम से

श्राद्ध कर्म महत्त्व और तिथियां | Shradh Dates 2019 Read More »