navratri

नवरात्री में कैसे करें कलश/घट स्थापना | Kalash Sthapna Vidhi

नवरात्री में कैसे करें कलश/घट स्थापना | Kalash Sthapna Vidhi नवरात्री में कलश/ घट स्थापना का विशेष महत्त्व है। अश्विन शुक्ल पक्ष के प्रतिपदा के दिन ही कलश की स्थापना की जाती है। यह कलश पुरे नौ दिन तक निर्धारित स्थान पर रखा जाता है। पुरे 9 दिन तक इसी कलश के पास भक्त गण माता […]

नवरात्री में कैसे करें कलश/घट स्थापना | Kalash Sthapna Vidhi Read More »

Navratra Kalash Sthapna Muhurt 2017 | कलश स्थापना मुहूर्त 2017

Navratra Kalash Sthapna Muhurt 2017 | कलश स्थापना मुहूर्त 2017 इस वर्ष चैत्र नवरात्री पूजन 28 मार्च 2017 से प्रारम्भ है। इस बार अमावस्या 28 तारीख को 8 बजकर 27 मिनट तक है अतः 29 तांत्रिक को प्रथम नवरात्र मनाने की सलाह दी जा रही है परन्तु शास्त्रानुसार ( निर्णयसिन्धु ) सूर्योदय के बाद 1 मुहूर्त

Navratra Kalash Sthapna Muhurt 2017 | कलश स्थापना मुहूर्त 2017 Read More »

शारदीय नवरात्रि तिथि 2023 | Shardiya Navratri Date 2023

शारदीय नवरात्रि तिथि 2023 | Shardiya Navratri Date 2023 शारदीय नवरात्रि दिनांक 15 अक्टूबर 2023 से आरम्भ होने वाला है। नवरात्रि  में दुर्गा माता की नौ दिनों में 9 स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। माता की नौ स्वरूप है — क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री। प्राचीन  मान्यता के अनुसार

शारदीय नवरात्रि तिथि 2023 | Shardiya Navratri Date 2023 Read More »

चैत्र नवरात्रि पूजन 18 मार्च 2018 कब और कैसे करें

चैत्र नवरात्रि पूजन 18 मार्च 2018 कब और कैसे करें। इस वर्ष चैत्र नवरात्रि पूजा 18 मार्च से आरम्भ है और 26 मार्च तक चलेगा। पूजा कैसे कब किस मुहूर्त में प्रारम्भ करना चाहिए और कौन-कौन सी सामग्री तथा पूजा विधि कैसे करना चाहिए का विवेचन किया गया है। नवरात्रि के पहला दिन माता शैलपुत्री

चैत्र नवरात्रि पूजन 18 मार्च 2018 कब और कैसे करें Read More »

दुर्गासप्तशती में किस स्तोत्र का पाठ करना जरुरी है

माता को प्रसन्न करने के लिए सभी भक्तजन दुर्गासप्तशती का पाठ करते है परन्तु दुर्गासप्तशती में किस स्तोत्र का पाठ करना जरुरी है यह बहुत कम भक्त ही जानते हैं। माँ को खुश करने के लिए भक्त तन-मन से शुद्ध होकर पुरे विधि-विधान पूर्वक पूजा, आरती तथा दुर्गा सप्तशती का सम्पूर्ण पाठ करते हैं। क्योकि ऐसी प्राचीन

दुर्गासप्तशती में किस स्तोत्र का पाठ करना जरुरी है Read More »

नवरात्री में कैसे करें माता की पूजा

आइये जानते हैं नवरात्री में कैसे करें माता की पूजा। माता की पूजा शुद्ध मन से पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करना चाहिए। नवरात्रि में माता दुर्गा की आराधना का महत्व बढ़ जाता है। नवरात्र के नौ दिन विशेष फलदायी होते है। नौ दिनों में किये गए माता के आराधना का फल भक्त को बहुत

नवरात्री में कैसे करें माता की पूजा Read More »

Shardiya Navratri 2021 : कलश स्थापना और पूजा का समय

Shardiya Navratri 2021 : कलश स्थापना और पूजा का समय। इस वर्ष नवरात्री पूजन 7 अक्टूबर 2021 से प्रारम्भ है। उस दिन प्रथम नवरात्र (प्रतिपदा) है। नवरात्रि के प्रथम दिन माता शैलपुत्री के रूप में विराजमान होती है। उस दिन कलश स्थापना के साथ-साथ माँ शैलपुत्री की पूजा होती हैऔर इसी पूजा के बाद मिलता है माँ का

Shardiya Navratri 2021 : कलश स्थापना और पूजा का समय Read More »

Sharad Navratri Dates 2020

शरद नवरात्रि तिथि 2020 शारदीय नवरात्रि दिनांक 17 अक्टूबर 2020 से आरम्भ होने वाला है। नवरात्रि में माता दुर्गा की नौ दिनों में नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। माता की नौ स्वरूप है — क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री। पौराणिक मान्यता के अनुसार नवरात्रि में नौ दिनों तक

Sharad Navratri Dates 2020 Read More »

माँ दुर्गा का द्वितीय स्वरूप – ब्रह्मचारिणी

माँ दुर्गा का द्वितीय स्वरूप – ब्रह्मचारिणी है। ब्रह्म शब्द वेदान्तियों के अनुसार परमात्मा के निराकार और निर्गुण स्वरुप का वाचक है। इनके अनुसार ब्रह्म ही इस दृश्यमान संसार का निमित्त और उपादान कारण है; यही सर्वव्यापक आत्मा और विश्व की जीव शक्ति है, यही वह मूलतत्व है जिससे संसार की सब वस्तुए पैदा होती

माँ दुर्गा का द्वितीय स्वरूप – ब्रह्मचारिणी Read More »

नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा कैसे करें

नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा कैसे करें(How to worship the nine form of Ma Durga in Navratri) यह जानना अत्यंत महत्वपूर्ण है। नवरात्रि में माँ दुर्गा अपने प्रथम स्वरूप में शैलपुत्री के रूप में प्रतिष्ठित है। शैल शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है पर्वत। पर्वतराज हिमालय के यहां जन्म लेने से, माँ

नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा कैसे करें Read More »