नवम भाव में मंगल का फल | Mars in Ninth House

नवम भाव में मंगल का फल | Mars in Ninth House | नवम भाव / स्थान में मंगल व्यक्ति को शिक्षित परिमार्जित मानसिक शक्ति वाला प्रख्यात विद्वान जिज्ञासु रचनात्मक साहित्यिक एवं टेक्निकल विषयों का ज्ञाता बनाता है। कर्क वृश्चिक मकर मीन में मंगल होने से विवाह के बाद भाग्योदय होता है। आप अपने स्वार्थसिद्धि के लिए दूसरों का नुकसान भी कर सकते है। शास्त्रानुसार —

धर्मस्थिताः भूमिपुत्रा कुर्वन्ति धर्मरहितं विपतिं कुशीलं।

अर्थात धर्म स्थान में मंगल होने से व्यक्ति धर्महीन दुर्बुद्धि और दुराचारी होता है।

नवम भाव में मंगल

नवम भाव में मंगल और पारिवारिक जीवन | Mars in Ninth House and Family

नवमस्थ  मंगल  होने से जातक का पारिवारिक जीवन सामान्यतः सुख प्रदायक होता है। इस स्थान में मंगल होने से पिता को अरिष्ट होता है अर्थात आप अपने पिता के लिए  भारी है।  पिता के साथ जातक का किसी न किसी कारण मत भिन्नता बना रहता है। आपके पिता और छोटे भाई का स्वभाव  आपके लिए कुछ कटु हो सकता है। आपको अपने पिता के कुछ फैसलों के कारण मानसिक पीड़ा महशुश करेंगे परन्तु आपको  घबड़ाना नहीं चाहिए क्योकि उनके इस निर्णय में ही आपका भविष्य छुपा है इस बात को न भूले। आपके जीवन काल में कुछ कानूनी अडचने भी आ सकती हैं। दूर की यात्रा से आपके लिए सुखद नहीं रहेगा।

जिसके भाग्य स्थान में मंगल होता है उसे बड़ा साला तथा जेठा भाई नही होता ऐसा जातक जेठ  साले  और जेठ भाई के सुख से वंचित रह सकता है। आपको अनुज भाई – बहन का सुख मिलेगा।आपके मित्रों की संख्या भी बहुत अधिक नही होगी लेकिन अपने मित्रों में  आपकी पहचान विशेष स्मरणीय होगा।

नवम भाव में मंगल और मनःस्थिति | Mars in Ninth House and Psychology

नवम भाव का मंगल जातक की कोई परिस्थिति हो अच्छी या बुरी हालतों  में यह यह आपको  अदम्य उत्साह और असीम धैर्य के साथ आध्यात्मिक मार्ग की ओर प्रशस्त करता है। जातक तपस्वी होता है तपस्या की अग्नि उसके पूर्व जन्म के अनिष्टकारी कर्मो को भस्म कर देती है।  नवमस्थ मंगल से जातक की कठिनाइयों में कमी नहीं आती है परन्तु जातक में  उन कठिनाइयों  से लड़ने की अदम्य  क्षमता और शेष  बल प्राप्त  होता  है।

नवमस्थ मंगल जातक को अभिमानी बना देता है परन्तु अच्छा होता की आप स्वाभिमानी बने। आप क्रोधी हो सकते हैं। आप ईर्ष्यालु है इसमें संदेह नहीं है। आप स्वयं पराक्रमी व्यक्ति हो सकते हैं। अपने परिश्रम के बल पर भाग्य निर्माता होंगे। कभी कभी आप हिंसात्मक रूख भी अपना सकते है।

नवम भाव में मंगल और स्वास्थ्य | Mars in Ninth House and Health

इस भाव में मंगल होने से जातक रोगी रहता है उसकी आँखे हाथ तथा शारीर लाल-पीले रंग के हो सकते हैं। जातक को विष  तथा अग्नि से पीड़ा होती है। आपके पाँव में रक्त रोग हो सकता है। आपको आँख में चोट लग सकती है जिससे आँख नष्ट भी हो सकता है। आप त्वचा रोग के भी शिकार हो सकते हैं।

आर्थिक एवं व्यावसायिक स्थिति| Mars in Ninth House and Economic condition

आर्थिक दृष्टि से आप बहुत कमजोर नहीं होंगे। आप अपने व्यवसाय में प्रसिद्धि प्राप्त करेंगे परन्तु प्रसिद्धि के बावजूद  भी आप अपने को सहज नहीं महशुस करेंगे। यदि आप डॉक्टर ( DOCTOR ) है और मंगल आपके नवम स्थान में है तो  यह योग बहुत ही अच्छा है। आप अवश्य ही मान-सम्म्मान यश और कीर्ति प्राप्त करेंगे। वकीलों के लिए नवमस्थ  मंगल योग अच्छा नहीं है। इंजीनियर ( ENGINEER ) सुनार लोहार आदि के लिए यह मगल लाभ प्रदायक है। पुलिस तथा आबकारी अफसरों के लिए भी नवम भाव का मंगल अच्छा फल नहीं देता है इन्हे अपने अफसरों से लड़ाई-झगड़ा के बाद ही सफलता मिलती है।

1 thought on “नवम भाव में मंगल का फल | Mars in Ninth House”

  1. Guru Ji ko mera Sadar pradam
    Guru Ji mera janam Agra me 1975 ko budhvar ke din subah 10:30am ko Hua he ……….guru Ji krapaya kr ke mujhe koi ratan bataya me …..bachpan se hi bahut Pareshan hu ….kaam nhi bnta ..me jo bhi kaam krta hu Kuchh samay bad band ho jata he …mere jameen pr char muqadme chl rahe he ….jinki mujhe hi pervi krni padti he ……guru Ji mujhe koi ….ratan bataye jis se mere dukho ka koi ant ho sake ………aap ki ati krpya hogi …….mera nam ..Shahid alam , janam 17/09/1975 , samay 10:30 am .,sthan Agra .,utter Pradesh

Leave a Comment

Your email address will not be published.