mostbet

bittorrent

Где поесть в Калининграде

посуточно калининград

снять квартиру посуточно калининград

गुरु गोचर का दूसरे भाव में फल | Jupiter transit effects in second house

दूसरे भाव में गुरु गोचर का फल | Transit of Jupiter in the second house गुरु /बृहस्पति गोचरवश एक भाव में करीब 13 महीना तक भ्रमण करता है। जन्मकुंडली में जन्म लग्न तथा राशि के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति के लिए भाव अलग अलग हो जाता है। परिणामस्वरूप सभी जातक के फल में भी अंतर हो जाता है। जैसे –

यदि आप सिंह लग्न के जातक है तो इस समय वृहस्पति गोचर में आपके प्रथम भाव में है। यदि आप धनु लग्न के जातक है तो इस समय वृहस्पति गोचर में आपके कुंडली के नवम भाव में है। अतः आपको इसी प्रकार भावो का विचार कर गुरु गोचर का फल देखना चाहिए।

गुरु गोचर
गुरु के गोचर का प्रभाव विभिन्न भाव में अलग-अलग रूप में पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में गुरु / बृहस्पति को सबसे शुभ ग्रह माना गया है। गुरु की दृष्टि को अमृत तुल्य कहा गया है। देवगुरू बृहस्पति ज्ञान, संतान एवं धन के भी कारक हैं।

आइये जानते है कि बृहस्पति/ गुरु का जन्म लग्न से गोचर का जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा ज्ञान, संतान, धन, भाई-बंधू, माता-पिता, परिवार, शिक्षा, व्यवसाय, वैवाहिक जीवन इत्यादि पर कितना प्रभाव पड़ेगा।

जाने !  गुरु/बृहस्पति गोचर में किस भाव में है।

लग्न वा राशि 22 अप्रैल  2023 से 31  अप्रैल 2024 तक मेष राशि में 01    मई 2024 से 13 मई 2025 तक वृष राशि में 14  मई 2025 से 2 जून  2026 तक  मिथुन राशि में 03 जून 2026 से 25 जून 2027 तक कर्क राशि 
मेषप्रथम भावद्वितीय भावतृतीय  भावचतुर्थ भाव
वृषद्वादश भावप्रथम भावद्वितीय भावतृतीय  भाव
मिथुनएकादश भावद्वादश भावप्रथम भावद्वितीय भाव
कर्कदशम भावएकादश भावद्वादश भावप्रथम भाव
सिंहनवम भावदशम भावएकादश भावद्वादश भाव
कन्याअष्टम भावनवम भावदशम भावएकादश भाव
तुलासप्तम भावअष्टम भावनवम भावदशम भाव
वृश्चिकछठा भावसप्तम भावअष्टम भावनवम भाव
 धनुपंचम  भाछठा भावसप्तम भावअष्टम भाव
मकरचतुर्थ भावपंचम  भावछठा भावसप्तम भाव
कुम्भतृतीय  भावचतुर्थ भावपंचम  भावछठा भाव
मीनद्वितीय भावतृतीय भावचतुर्थ भावपंचम  भाव

दूसरे भाव में गुरु गोचर फल |Jupiter Transit in 2nd House

द्वितीय भाव को धन भाव भी कहा जाता है। गुरु धन कारक ग्रह है। “कारकोभाव नाशाय” के सिद्धांतानुसार लग्न कुंडली दूसरे भाव में धन की हानि करता है। परन्तु गोचरवश गुरू के दूसरे भाव में होने पर धन की हानि नहीं होती बल्कि धन लाभ होता है। हाँ आमदनी के साथ साथ व्यय भी बढ़ेगा। गुरु इस स्थान से दशम स्थान को देख रहा है। अतः आपके रुके हुए कार्य भी शीघ्र ही पूरा होगा।

गुरु गोचर

कार्य को बढ़ाने के लिए हो सकता है की आपको ऋण ( Loan ) भी लेना पड़े। यदि आप नौकरी की तलाश में है तो अवश्य ही आपको नौकरी मिलेगी। इस समय धन तो आयेगा परन्तु खर्च भी बढ़ जाएगा। ज्यादा व्यय के कारण मानसिक परेशानी भी आ सकती है। व्यक्तिगत रूप से आपके व्यक्तित्व में निखार आएगा।

आपसे लोग प्रभावित होंगे। आपके विचारों को सुनेंगे ध्यान देंगे। समाज में मान प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी। बृहस्पति के इस भाव में गोचर करने पर संतान सुख प्राप्त होता है। पारिवारिक मामलों में अनुकूलता रहेगी। ज़मीन या मकान से सम्बंधित इच्छा की पूर्ति होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *