Moon in Twelve House – बारहवें भाव में चन्द्रमा

Moon in Twelve House – बारहवें भाव में चन्द्रमा शुभ कम अशुभ फल ज्यादा देता है। बारहवां भाव व्यय तथा मोक्ष भाव होने से इस स्थान का चंद्रमा व्यय अथवा हानि का सूचक है। जिस व्यक्ति के जन्मलग्न से बारहवें भाव में चन्द्रमा हो तो यह कृश और दुर्बल शरीर होता है। यह रोगी क्रोधी और गरीब होता है। चन्द्रमा यहां अपने घर का हो या गुरु अथवा बुध की राशि में हो तो मनुष्य इन्द्रियजय, दान देने वाला स्मार्ट शरीर वाला और सभी प्रकार के सुख भोगने वाला होता है। यदि चन्द्रमा अशुभ अवस्था में हो तो नीच प्रवृत्ति वाले मनुष्यों के साथ रहने वाला होता है। अन्यत्र कहा गया है — द्र्व्यक्षयम् क्षुधाल्पत्वं नेत्ररूक्कलहोगृहे।।

अर्थात इस स्थान पर चन्द्रमा होने से धन का नाश होता है। इसे मंदाग्नि रहती है और भूख कम लगती है। घर में लड़ाई-झगड़ा होते रहता है। ऐसे जातक के आँखों में विकार होता है। आपका जुडाव किसी अस्पताल या धार्मिक संस्थान के साथ हो सकता है।

Moon in Twelve House

बारहवें भाव में स्थित चन्द्रमा और मनोविज्ञान (Moon in Twelve House and psychology)

बारहवें स्थान में स्थित चंद्रमा ( Moon in Twelve House ) आपको चिंतनशील व्यक्ति बना देता है आपको अकेले में बैठकर सोचने के लिए बाध्य करता है और बाद में आप मह्सुश भी करते है की यह अच्छा नहीं है। आप एक एकांत  प्रिय व्यक्ति है आपकी अपनी पसंद है आप हमेशा चाहते है की जो मैं चाहू वैसा ही हो और इसके लिए आप भरपूर कोशिश भी करते है। यदि किसी कारण अपनी पसंद की योजना बनाने में असफल होते है तो तुरंत दुखी भी हो जाते हैं। आप मधुरभाषी है परन्तु आवश्यकता पड़े तो कठोरवचन का प्रयोग करने में भी आप परहेज नही करते है। आप बहुत खर्चीले हो सकते है यदि किसी शुभ ग्रह का सम्बन्ध है या किसी अन्य ग्रह से कोई सम्बन्ध नहीं है और चन्द्रमा अपने कर्क राशि में या वृष राशि में है तो आप शुभ कार्यो में खर्च करेंगे। परन्तु ठीक इसके विपरीत यदि चन्द्रमा का अशुभ ग्रहों से किसी भी प्रकार से सम्बन्ध बनता है तो अशुभ कार्यो में या अनर्थक कार्यो में खर्च होगा। पहले तो आप अपने गुस्सा पर नियंत्रण करना चाहते है किन्तु ऐसा होता नहीं है।

आप आलसी व्यक्ति हो सकते है और कई बार तो आलसीपन के कारण आपके बने बनाये कार्य बिगड़ भी जाते हैं। आप आप सौंदर्य प्रिय और प्रेममार्गी है प्रेम करना और प्रेम के लिए कुछ करना दोनों आपको प्रिय है। समय आने पर अंतरंग सम्बन्ध बनाने में भी परहेज नहीं करते और यदि अशुभ ग्रहो की युति या दृष्टि सम्बन्ध हो तब तो सोने पे सुहागा वाली बात लागू हो जाएगा। आपको जीवन में विदेश यात्राएं करने के भी मौके भी मिलेंगे। मैं अपने अनुभव में देखा हूँ की ऐसा व्यक्ति अपना निवास स्थान विदेश में बनाना चाहता है और इसमें सफल भी होता है। प्रसिद्ध ज्योतिषी वैधनाथ ने इस बात का समर्थन करते हुए एक स्थान पर कहा है —

चन्द्रेsत्य जातेतु विदेशवासी।।

पारिवारिक एवं सामाजिक स्थिति (Family and Social Status if Moon in Twelve House)

बारहवां भाव व्यय का भाव है और चन्द्रमा मन का कारक है इसलिए आप हेमशा खर्चे को लेकर परेशान रह सकते है। आपके शत्रुओं की संख्या अधिक हो सकती है। आपको अपने जीवन यात्रा में कई परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है। कई मामलो में सामाजिक मूल्य में हानि का भी सामना करना पड़ सकता है।

Moon in Twelve House

लाल किताब के अनुसार बारहवें भाव में चन्द्र फल (Moon Twelve House and Lal Kitab)

लाल किताब के अनुसार इस भाव में चन्द्रमा( Moon in Twelve House ) न केवल धन की  हानि करता है अपितु आयु की भी हानि करता है। यदि चंद्रमा का सम्बन्ध किसी भी तरह से शनि से बनता है तो कहा गया है कि ऐसा इंसान  पूर्व जन्म में कम उम्र में मरा होगा और मौत भी जहर खाने से हुई होगी इसका मुख्य कारण है कि शनि विष का कारक है और चन्द्रमा पानी का। इसी कारण यह योग जहर के द्वारा हुई मौत का संकेत करता है।

इस भाव का चंद्रमा( Moon in Twelve House ) व्यक्ति को सृजनात्मक कार्य करने के लिए प्रेरित करता है। ऐसा जातक कोई न कोई ऐसा काम करना चाहता है जिससे समाज में नाम हो मान – सम्मान मिले। ऐसा व्यक्ति कला के धनी होते हैं यदि पारिवारिक अथवा सामाजिक माहौल मिले तो अच्छे कलाकार हो सकते हैं।

लाल किताब के अनुसार ऐसे चंद्रमा वाला व्यक्ति अपने पिता के विषय में, उसकी धन- दौलत के बारे में या सामाजिक हैसियत के बारे में हमेशा कुछ न कुछ बातें करता रहता है।यह भी कहा गया है कि पिता से मिलने वाली धन-दौलत मिट्टी हो जाती है अर्थात् उसमें बरकत नहीं होती परन्तु अपनी कमाई से प्राप्त धन में बरकत होती है। यह भी कहा गया है कि यदि चन्द्रमा बारहवें घर में हो और आठवें घर में केतु हो तो जातक का पुत्र गृह छोड़कर चला जाता है।

बारहवें भाव में चन्द्रमा और स्वास्थ्य (Moon in Twelve House and Health)

बारहवें स्थान में चन्द्रमा( Moon in Twelve House ) होने से आपकों आखों से सम्बंधित परेशानी हो सकती है। यदि मंगल का किसी तरह सम्बन्ध बनता है तो आखो में चोट लग सकता है और उसके कारण नेत्र दोष होगा। वही शनि के साथ योग बन रहा हो तो काला मोतियाबिंद या रतौधी जैसी बीमारी हो सकती है। यदि राहु से सम्बन्ध बनता है तो इन्फेक्शन के कारण नेत्र दोष होगा। इसके अलावा कफ से सम्बंधित परेशानियां भी हो सकती हैं।

क्या करना चाहिए और क्या नहीं (What should you do or not)

ऐसे व्यक्ति को कभी भी अपने घर के छत के नीचे कुआं या हैण्डपम्प नही लगवाना चाहिए। इसे लगाने से धन की हानि होती। दाम्पत्य सुख में भी समस्याएं आती है। अकारण क्लेश होते रहता है। इस समस्या से मुक्ति हेतु अपने घर के छत पर मिट्टी के मटके में बारिश का पानी भरकर रखें सभी समस्याएं अपने आप धीरे धीरे समाप्त हो जायेगी।

3 thoughts on “Moon in Twelve House – बारहवें भाव में चन्द्रमा”

  1. अजीत कुमार

    सर् 12 हाउस में चन्द्रमा है 0 डिग्री उपाय बताए कैसे मजबूत कर सर् जवाब जरूर दीजिये

  2. 31/12/1998 time-16:22 minute place- Delhi chandrama 12 house me hai par apne rashi vrishabh me kya kare

Leave a Comment

Your email address will not be published.