शुक्र ग्रह परिचय तथा गोचर तिथि 2022 | Shukra Gochar | Venus Transit 2022-23

 

शुक्र ग्रह परिचय तथा गोचर तिथि 2022 | Shukra Gochar | Venus Transit 2022-23शुक्र ग्रह परिचय तथा गोचर तिथि 2022 | Shukra Gochar | Venus Transit 2022-23. वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह शुभता का प्रतीक है। वस्तुतः यह ग्रह शुभ ग्रह के रूप में प्रतिष्ठित है। शुक्र का संबंध सौंदर्य, प्रेम, आकर्षण, सुगन्धित वस्तुए, कला इत्यादि से है। इसे स्त्री ग्रह के रूप में जाना जाता है। वृष और तुला राशि का स्वामी ग्रह शुक्र है। वृष राशि आकर्षक व्यक्तित्त्व का प्रतीक है इसी कारण इस राशि के व्यक्ति बहुत ही सुन्दर और मनमोहक होते है वही तुला शिष्ट और न्यायपूर्ण व्यवहार का प्रतीक है तुला राशि के जातक न्याय प्रिय होते है। यदि कुंडली में शुक्र शुभ है तो जातक का चित शांत रहता है। शुक्र से प्रभावित जातक सुन्दर मनमोहक और मिलनसार स्वभाव का होता है।

जानें ! क्यों है शुक्र ग्रह का इतना महत्त्व | Importance of Venus

वैदिक ज्योतिष में शुक्र का सम्बन्ध शुक्राचार्य से माना जाता है। शुक्र ग्रह का मूल उद्देश्य है स्वयं को सांसारिक भौतिकता से दूर रखते हुए संसारिक विकास क्रम को नियमित रूप में संचालित करना। शुक्राचार्य भी असुरो को भौतिकता में निरत रहने की शिक्षा बिना स्वयं भौतिकता में फंसे हुए देते है। ज्योतिष में शुक्र का प्रधान गुण इन्द्रिय सुख का उपभोग माना जाता है परन्तु वास्तव में शुक्र के लिए यह असाइनमेंट परस्पर संवेदनशील सम्बन्ध स्थापित करने का एक माध्यम है उद्देश्य तो कुछ और ही है।
वस्तुतः जीव को जीवन प्रेरणा शुक्र के द्वारा स्पंदित कामोत्तेजना से ही प्राप्त होती है इसी कारण शुक्र ग्रह की महत्ता अन्य ग्रह से बिलकुल अलग है।

शुक्र का राशि तथा ग्रह से संबंध

शुक्र मीन राशि में शुक्र उच्च तथा कन्या राशि में नीच का होता है। बुध,शनि व केतु के साथ इनकी मित्रता है तो चंद्रमा, सूर्य व राहू के साथ इनका शत्रुवत संबंध है। मंगल व बृहस्पति के साथ शुक्र का संबंध सामान्य है। शुक्र को भोर का तारा भी कहा जाता हैं। यह जन्मकुंडली में विवाह का कारक ग्रह है।

शुक्र ग्रह परिचय तथा गोचर तिथि 2019 | Shukra Gochar | Venus Transit 2019
https://astroyantra.com/scholarship-abroad-studies-birth-chart/

जानें ! क्या-क्या है शुक्र ग्रह का कारकत्व

ज्योतिष शास्त्र में पत्नी का कारक ग्रह शुक्र है यही ग्रह दाम्पत्य जीवन मुख्य रूप से परिभासित करता है। इसके अतिरक्त शुक्र ग्रह विवाह ( Marriage) जानें ! कब होगी आपकी शादी ?, प्रेमी, प्रेमिका, रति-क्रिया, मैथुन, सौंदर्य, संगीत, कला, वाहन, व्यापार, होटल, मॉडलिंग , कंप्यूटर इत्यादि का कारक ग्रह है। इस ग्रह के साथ अन्य ग्रहो की युति से अनेक प्रकार के योग का निर्माण होता है है। यदि शुक्र उच्च का होकर केंद्र में स्थित है तो “मालव्य योग” का निर्माण होता है यह योग जातक को मान-सम्मान यश कीर्ति प्रदान करता है।

अशुभ शुक्र ग्रह स्वास्थय के लिए खतरनाक होता है

शुक्र ग्रह यदि आपकी कुंडली में अशुभ स्थिति में है तो व्यवक्ति अपने स्वास्थ्य को लेकर हमेशा परेशान रहता है। शुक्र शरीर में स्थित किडनी का कारक ग्रह है इसी कारण यदि जन्मकुंडली में यह ग्रह ख़राब स्थिति में है या अशुभ ग्रह के साथ युति-प्रतियुति में है तो जातक का किडनी खराब हो जाता है। यह ग्रह सामान्यतः वीर्य, जननेन्द्रिय गुप्तांग से सम्बन्धित बिमारी देने में समर्थ होता है।
अतः यदि व्यक्ति शुक्र ग्रह से सम्बंधित मन्त्र, पूजा दान इत्यादि नियमित करता है निश्चय ही शारीरिक रोगो से मुक्ति मिल सकती है।

जानें ! कैसे शुक्र ग्रह “ऐश्वर्य” दिलाता है

शुक्र ग्रह यदि आपकी जन्मकुंडली में अनुकूल स्थिति में है तो व्यक्ति को भौतिक सुख प्रदान करता है। ऐसा व्यक्ति अचूक सम्पत्ति वाला होता है। जातक का दाम्पत्य जीवन सुखमय व्यतीत होता है। व्यक्ति यौन-सुख की पराकाष्ठा का अनुभव करता हुआ उत्तरोत्तर आगे की ओर बढ़ता रहता है इस कारण परिवार तथा समाज में मान-सम्मान, प्रतिष्ठा और यश प्राप्त करता है। ऐसा जातक “वात्स्यायन सूत्र” के सभी कलाओं को जानने वाला होता है। यदि शुक्र अशुभ भाव या अशुभ भाव का स्वामी होकर कुंडली में विराजमान है तो व्यक्ति को पारिवारिक तथा वैवाहिक जीवन नरक बन जाता है परिणामस्रूप मान-सम्मान तथा प्रतिष्ठा में कमी आती और अपयश का भागी बनता है।

शुक्र गोचर 2022 | Shukra Gochar 2022 | Venus Transit 2022

गोचर  ग्रह  2022शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तनतिथिदिन
शुक्रधनु से मकर27 फरवरी, 2022रविवार 
शुक्रमकर से कुम्भ31 मार्च, 2022गुरुवार
शुक्रकुम्भ से मीन28 अप्रैल, 2022गुरुवार
शुक्रमीन से मेष24 मई, 2022मंगलवार सोमवार
शुक्रमेष से वृष18 जून, 2022शनिवार
शुक्रवृष से  मिथुन13 जुलाई, 2022बुधवार सोमवार
शुक्रमिथुन से कर्क 07 अगस्त, 2022रविवार
शुक्रकर्क से सिंह1 सितंबर, 2022गुरुवार
शुक्रसिंह से कन्या24 सितंबर, 2022शनिवार
शुक्रकन्या से तुला19 अक्टूबर, 2022बुधवार
शुक्रतुला से वृश्चिक12 नवंबर, 2022शनिवार
शुक्रवृश्चिक से धनु05 दिसंबर, 2022सोमवार
शुक्रधनु से मकर29 दिसंबर, 2022गुरुवार
शुक्रमकर से कुम्भ22 जनवरी, 2023रविवार
शुक्रकुम्भ से मीन15 फरवरी, 2023बुधवार
शुक्रमीन से मेष12 मार्च, 2023रविवार
शुक्रमेष से वृष23 अप्रैल , 2023गुरुवार
शुक्रवृष से  मिथुन02 मई, 2023मंगलवार

Leave a Comment

Your email address will not be published.