Sharad Navratri Dates 2020

शरद नवरात्रि तिथि 2020 शारदीय नवरात्रि दिनांक 17 अक्टूबर 2020 से आरम्भ होने वाला है। नवरात्रि में माता दुर्गा की नौ दिनों में नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। माता की नौ स्वरूप है — क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री। पौराणिक मान्यता के अनुसार नवरात्रि में नौ दिनों तक माता दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना करने से जीवन में ऋद्धि-सिद्धि ,सुख- शांति, मान-सम्मान, यश और समृद्धि की प्राप्ति तुरंत ही होती है। माता दुर्गा को हिन्दू धर्म में आदिशक्ति के रूप में सुप्रतिष्ठित है तथा माता शीघ्र फल प्रदान करनेवाली देवी के रूप में लोक में विश्रुत है। देवीभागवत पुराण के अनुसार आश्विन महीना में माता की पूजा-अर्चना वा नवरात्र व्रत करने से मनुष्य पर देवी दुर्गा की कृपा सम्पूर्ण वर्ष बनी रहती है और मनुष्य का कल्याण होता है।

जानें ! 2020 में दशहरा 25 अक्टूबर को है या 26

Sharad Navratri Dates 2020

जानें। वर्ष 2020 की नवरात्री की तिथियाँ। Navratri Dates 2020

  • प्रथम नवरात्रि (प्रतिपदा), शैलपुत्री स्वरूप की पूजा – 17 अक्टूबर 2020 शनिवार   इस दिन कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 06:25 से 10:15 बजे तक अथवा अभिजीतमुहूर्त 11:43 से 12:29 तक में। 
  • द्वितीय नवरात्रि, देवी ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा –      18 अक्टूबर 2020
  • तृतीय नवरात्रि, सिन्दूर चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा –            19 अक्टूबर 2020
  • चतुर्थ नवरात्रि, कुष्मांडा स्वरूप की पूजा –                       20 अक्टूबर 2020
  • पंचमी नवरात्रि, स्कंदमाता, वरद विनायका चौथ  –          21 अक्टूबर 2020
  • षष्ठी नवरात्रि, कात्यायनी स्वरूप की पूजा –                    22 अक्टूबर 2020
  • सप्तमी नवरात्रि, कालरात्रि स्वरूप की पूजा  –                  23 अक्टूबर 2020
  • अष्टमी नवरात्रि, महागौरी स्वरूप की पूजा –                    24 अक्टूबर 2020
  • नवमी नवरात्रि, सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा –                    25 अक्टूबर 2020

अष्टमी के दिन माता महागौरी की पूजा की जाती है तथा उस दिन उपवास व्रत के साथ-साथ कन्या पूजन का भी विधान है।  कन्या पूजन नवमी के दिन भी किया जाता है। यदि कोई व्यक्ति नौ दिनों तक पूजा करने में समर्थ नहीं है और वह माता के नौ दिनों के व्रत का फल लेना चाहता है तो उसे प्रथम नवरात्र तथा अष्टमी का व्रत करना चाहिए माता उसे मनोवांछित फल प्रदान करती है।

भारतीय हिन्दू पंचांगानुसार इस वर्ष नवमी तथा दशमी एक ही दिन है अतः नवमी और विजयदशमी या दशहरा 25 अक्टूबर 2020 को ही मनाया जाएगा। इस दिन शस्त्रपूजा का भी विधान है।

Sharad Navratri Dates 2020

जय माता दी, जय माता दी, जय माता दी, जय माता दी, जय माता दी

Navratri Dates 2016

Diwali Pujan Vidhi / दीपावली पूजन कैसे करें

नवरात्री में कैसे करें कलश/घट स्थापना | Kalash Sthapna Vidhi

नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा कैसे करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.