Auspicious date for Election Nomination | चुनाव नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त

Auspicious date for Election Nomination | चुनाव नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त विचार. वर्ष 2019 में लोकसभा का चुनाव होने वाला है। लोकसभा चुनाव में टिकट मिलेगा या नहीं मिलेगा, मिलने की कितनी सम्भावना है इत्यादि प्रश्नों को लेकर कई राजनीतिज्ञ सीधे या टेलीफोन के माध्यम से सम्पर्क में हैं यदि आप भी राजनीति से सम्बन्ध रखते हैं तो अवश्य ही चुनाव में टिकट लेने के लिए अपने पार्टी के शीर्षस्थ नेता से सम्पर्क में होंगे या आपका टिकट मिलना तय हो गया होगा  तो  मेरा आपसे अनुरोध है की शुभ मुहूर्त में ही चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करें क्योंकि किसी भी कार्य को पूरा  करने के लिए शुभ दिन, तिथि, नक्षत्र, घड़ी इत्यादि का चुनाव करने से कार्यसिद्धि की सफलता दोगुनी हो जाती है।

शुभ मुहूर्त का विचार वैदिक काल से ही चला आ रहा है। मनुष्य की जीवन यात्रा जब से शुरू होती है उसी समय से वह काल के अधीन हो जाता है इस कारण से भी हमें उस काल का बार-बार चिंतन अवश्य ही करनी चाहिए। मुहूर्त अर्थात काल के संबंध में  बार-बार ( मुहू-मुहू ) चिंतन करने के बाद जो तिथि और समय निकले वही मुहूर्त है। पूर्णतः समय की शुद्धि ही तो “मुहूर्त है।

सामान्यतः यह देखा गया है कि जो काम सही समय का ध्यान रखकर किया जाता है वह विना व्यवधान के सफल हो जाता है परन्तु विना तिथि और काल का विचार किये किया गया है तो कार्य सिद्धि  या तो होती ही नहीं और यदि होती है तो बहुत परेशानी के साथ।

This image has an empty alt attribute; its file name is Auspicious-date-for-Election-Nomination-चुनाव-में-नामांकन-हेतु-शुभ-मुहूर्त-विचार-1-min.jpg

वैदिक काल से  ही किसी भी कार्य को करने से पूर्व शुभ मुहूर्त  चयन करने  की परंपरा रही है और शुभ मुहूर्त वा काल में किया गया कार्य निर्विघ्न रूप से संपन्न होता है, यह ऋषि-मुनियों का कथन है। अतः कोई भी महत्त्वपूर्ण काम आरम्भ करने से पहले मुहूर्त का विचार अवश्य करना चाहिए। कई बार मुहूर्त को लोग बोझिल समझ कर छोड़ देते है और उसका परिणाम अशुभ होता है अतः ऐसा न करें और आप तो मंत्री बनने के लिए चुनाव लड़ रहें हैं। अतः किसी भी कार्य में, मुहूर्त चयन बहुत ही महत्त्व  रखता है। शपथ ग्रहण मुहूर्त

आप भी चुनाव नामांकन ( Election Nomination ) के लिए मुहूर्त का अवश्य ही चयन करे अवश्य ही शुभ परिणाम आएगा। शुभ मुहूर्त आपके भविष्य को बदले या न बदले, परंतु जीवन के प्रमुख कार्य शुभ मुहूर्त में करते हैं तो आपका जीवन निश्चित ही आनंददायक बन जाएगा। अत: हमें अवश्य ही शुभ समय का चयन करना चाहिए।

Auspicious date for Election Nomination | चुनाव में नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त विचार

Auspicious date for Election | कैसे बनता है चुनाव में नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त ?

चुनाव में नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त निकालने के लिए निम्नलिखित बातों का विशेष रूप ध्यान रखा जाता है-

तिथि, वार, नक्षत्र, योग, करण,  शुक्र और गुरु अस्त, अशुभ योग, भद्रा, मलमास, अधिकमास, शुभ लग्न, शुभ योग तथा राहू काल इत्यादि  योग से शुभ मुहूर्त का चयन किया जाता है जैसे – सर्वार्थसिद्धि योग, रवि योग , गुरु-पुष्य योग इत्यादि।

शुभ तिथि विचार :-  प्रतिपदा (कृष्ण पक्ष), द्वितीया, तृतीया, पंचमी, नवमी, दशमी, द्वादशी तथा  पूर्णिमा (शुक्ल पक्ष)  तिथियां ग्राह्य है।

शुभ वार विचार :-    सोमवार, बुधवार गुरूवार तथा शुक्रवार  का दिन शुभ माना गया है।

शुभ नक्षत्र विचार :-  अश्विनी, रोहिणी,  पुनर्वसु, पुष्य, तीनों उत्तरा, हस्त अनुराधा, श्रवण धनिष्ठा तथा रेवती नक्षत्र शुभ होता है।

योग शुद्धि विचार :-  प्रीति, आयुष्मान, सोभाग्य, शोभन, धृति एवं सुकर्मा योग में चुनाव का नामांकन भरना चाहिए।

करण शुद्धि विचार :-  विष्टी, नाग एवं शकुनी को छोड़कर शेष करण ग्रहण करने योग्य है

लग्न शुद्धि विचार :-  चर लग्न  यथा – मेष, कर्क, तुला एवं मकर लग्न में ही नामांकन भरना चाहिए।

चंद्र शुद्धि विचार :- चुनावी नामांकन करते समय चंद्र शुद्धि का अवश्य ही विचार कर लेना चाहिए। इसके लिए प्रत्याशी की राशि से 6, 8 और 12 वे स्थान में चन्द्रमा नहीं होना चाहिए।

विशेष – नामांकन पर्चा भरने के समय की कुंडली में केंद्र और त्रिकोण में शुभ ग्रह हों तथा तीसरे, छठे, तथा ग्यारहवें भाव में पाप ग्रह होना चाहिए। लग्न तथा लग्नेश पर शुभ ग्रह की दृष्टि हो।  बुध शुक्र और गुरु ग्रह उदित हो।

Auspicious date for Election | सर्वार्थसिद्धि योग

सर्वार्थ सिद्धि  योग में कार्य प्रारम्भ करने से कार्यों में व्यवधान नहीं आती है। यदि सोमवार के दिन रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा तथा श्रवण नक्षत्र हो तो  सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण होता है।

Auspicious date for Election | गुरु-पुष्य योग 

यदि गुरुवार को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में हो तो इससे पूर्ण सिद्धिदायक योग बन जाता है।

अन्य शुभ दिन यदि चतुर्दशी तिथि को सोमवार आये तथा पूर्णिमा या अमावस्या के दिन मंगलवार हो तो वह दिन भी शुभ मुहूर्त होता है। इस योग में किया गया कार्य शुभ फलटदायक होता है।  

नोट ;– जब लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन तिथि चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित किया जाएगा तब उस तिथि के आधार पर शुभ तिथि का चयन कर बताने की कोशिश की जाएगी।

Astrologer Dr. Deepak Sharma  9868549875

Leave a Comment

Your email address will not be published.