Ashtakvarga Venus | शुक्र ग्रह के अष्टकवर्ग का फल

Ashtakvarga Venus | शुक्र ग्रह के अष्टकवर्ग का फल

जन्मकुंडली में शुक्र ( Venus ) ग्रह से विवाह (Marriage), पत्नी, वस्त्र, वाहन, लक्ष्मी, आधिभौतिक सुख इत्यादि का विचार किया जाता है। शुक्र ग्रह के अष्टकवर्ग के विभिन्न बिंदुओं का फल उस समय मिलता है जब शुक्र उन राशियों से गोचर करता है। जन्मकुंडली में शुक्र ग्रह की उच्च, नीच, शत्रु घर इत्यादि की स्थिति पर भी इन परिणामों को लागू करके देखने से व्यक्ति के सम्पूर्ण जीवन में शुक्र ग्रह से संबंधित घटनाओं को जाना जा सकता है।
शुक्र के अष्टकवर्ग के माध्यम से विवाह के विषय में समुचित जानकारी प्राप्त की जा सकती है। शुक्र बिन्दूविहीन जिस कक्षा से गुजरता है तब जातक को भौतिक और शारीरिक कष्ट तथा धन, स्वास्थ्य तथा मान-सम्मान की हानि पहुँचाता है।

शुक्र( Venus) के अधिकतम और न्यूनतम बिंदु का फल

8 बिंदु के फल | 8 Bindu Effects

यदि शुक्र अपने अष्टकवर्ग में किसी भी राशि में 8 बिंदु दिया है तो वह सबसे शुभ माना गया है। शुक्र गोचर के समय जातक को जीवन के भौतिक सुख का आनंद दिलाएगा। इस समय व्यक्ति को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। जातक ब्रांडेड वस्त्रों का उपयोग करेगा उसे सुंदर व संभ्रांत परिवार के महिलाओं का सुख मिलेगा। आपको होटल में स्वाद युक्त भोजन खाने का मौका मिलेगा। आपका स्वागत बुके के द्वारा हो सकता है।

7 बिंदु के फल | 7 Bindu Effects

शुक्र अपने अष्टकवर्ग में जिस राशि में 7 बिंदु दिया है और शुक्र उस राशि से विचरण कर रहा है तो जातक को धन लाभ होगा। मानसिक शांति और प्रसन्नता का अनुभव करेगा। जातक को वाहन सुख की प्राप्ति होगी। यदि कुंडली में शुक्र शुभ स्थिति में है तो व्यक्ति लग्जरी गाड़ी खरीदेगा। जातक कीमती तथा मनमोहक सामग्री यथा आभूषण कंप्यूटर मोबाईल इत्यादि की खरीददारी करेगा।

6 बिंदु के फल |6 Bindu Effects

शुक्र अपने अष्टकवर्ग में जिस राशि में 6 बिंदु दिया है और शुक्र उस राशि से गोचर कर रहा है तो उस समय आपको सुशील और सुंदर पत्नी की प्राप्ति होगी। यदि आप विद्यार्थी है तो खूबसूरत लड़की से प्रेम ( Love) होगा। इस समय व्यक्ति का आकर्षण सुंदरता के प्रति बढ़ जाएगा।

5 बिंदु के फल |5 Bindu Effects

जिस भाव शुक्र 5 बिंदु दिया है और उसी भाव वा राशि से गोचर कर रहा है तो जातक को मित्र लाभ होगा। पुराने मित्रों से मुलाकात होगी उनके साथ कुछ पल व्यतीत करने का अवसर मिलेगा। बच्चों के साथ मूवी देखने का आनंद ले सकते हैं।व्यापार में वृद्धि होगी। घर में कोई नया कार्य हो सकता है।

4 बिंदु के फल | 4 Bindu Effects

शुक्र अपने अष्टकवर्ग में जिस राशि में 4 बिंदु दिया है और शुक्र उस राशि से गोचर कर रहा है तो उस समय जातक मिश्रित फल की प्राप्ति होगी आय और व्यय लगभग एक समान चलता रहेगा। व्यक्ति को शुभ-अशुभ, अच्छा और खराब दोनों का अनुभव मिलेगा। किसी महिला का अपमान भी सहना पड़ेगा।

3 बिंदु के फल | 3 Bindu Effects

यदि शुक्र अष्टकवर्ग में किसी राशि में 3 बिंदु दिया है और शुक्र गोचर में है तो यह शुभ परिणाम नहीं मिलेगा बल्कि अपने पड़ोसियों तथा स्थानीय प्रशासन के साथ किसी भी बात को लेकर आपस में शत्रुता का माहौल पैदा होगा जिस कारण आप मानसिक रूप से दुःखी रहेंगें। पति-पत्नी में मनमुटाव और झगड़ा हो सकता है। व्यक्ति को कोर्ट कचहरी का चक्कर लग सकता है। कोई कीमती सामान खो सकता है।

2 बिंदु के फल | 2 Bindu Effects

यदि शुक्र अपने अष्टकवर्ग में 2 बिंदु प्रदान किया है और गोचर में उसी राशि से भ्रमण कर रहा है तो मान-सम्मान का ह्रास होगा। यश में कमी होगी। नौकरी कर रहें है तो प्रमोशन नहीं होगा बल्कि डिमोशन किया जा सकता है। धन की कमी महशुस करेंगे। दिन पर दिन व्यक्ति अपने पतन को देखने के लिए मजबूर हो जाएगा। दाम्पत्य सुख में भी कमी होगी।

1 बिंदु के फल |1 Bindu Effects

यदि शुक्र किसी राशि में एक बिंदु दिया है तो ऐसा जातक शुक्र के गोचर के समय आधिभौतिक कष्ट भोगेगा। उसके अंदर नकारात्मक विचार का संचार होने लगेगा यदि इस पर काबू नहीं पाया गया तो जातक डिप्रेशन में जा सकता है। अचानक किसी घटना का शिकार हो सकता है। यदि कोई केश मुकदमा चल रहा है तो आप को जेल भी जाना पर सकता है। आपके शत्रु आपके ऊपर हावी होने लगेंगे।

0 बिंदु के फल | 0 Bindu Effects

यदि शुक्र किसी राशि में 0 बिंदु दिया है और गोचर तथा दशा, अंतर्दशा भी अशुभ चल रही है तो उस समय जातक की मृत्यु तुल्य कष्ट प्राप्त करेगा। मानसिक आघात लग सकता है। नकारात्मक सोच के कारण आप बीमार भी हो सकते हैं। जातक को अनेक प्रकार के कष्ट भोगने पड़ेंगे। इस समय जातक के इच्छा के अनुरूप कुछ भी नहीं होगा।

शुक्र शुभ बिंदु राशि में गोचर करे तब निम्न शुभ कार्य करें।

  1. जन्म कुंडली के जिस भाव में सबसे ज्यादा शुभ बिंदु हों, उस भाव पर शुक्र जब गोचर करें तब जातक को संगीत सीखने, यौन सुख, गहने खरीदने या वैवाहिक कार्यक्रम के लिये शुभ होता है।
  2. प्रेमी-प्रेमिका से डेटिंग पर जा सकते हैं।
  3. शारीरिक वा यौन सुख के लिए बहुत अच्छा समय होगा।
  4. धन-निवेश के लिए शुभ होगा।
  5. किसी को कोई गिफ्ट देना अच्छा रहेगा।
  6. वाहन खरीदने के लिए बढ़िया समय होगा।

सूर्य चन्द्रादि ग्रहों के अष्टकवर्ग का फल

सूर्य चन्द्र मंगल बुध बृहस्पति शुक्र शनि

Leave a Comment

Your email address will not be published.